Friday, December 19, 2008

दरवाज़ा

आप के प्यार ने दरवाज़ा खोल्दिया खुशी का
हमने सोचा था की मिलगया मकसद जीने का
टूट गए सारे सपने जब जुदाई का इशारा किया आपने
हम समझ गए की घलत दरवाज़ा खटखटाया था हमने !!!

No comments: